अपनी राशि के अनुसार जानिए सूर्य ग्रहण 2017 का प्रभाव

on

वर्ष 2017 में कुल चार ग्रहण लग रहे है : दो सूर्य ग्रहण और 2 चन्द्र ग्रहण

पहला सूर्य ग्रहण: 26 फरवरी (रविवार ) , 2017

दूसरा सूर्य ग्रहण: 21-22 अगस्त (सोमवार) , 2017

पहला चन्द्र ग्रहण: 11 फरवरी (शनिवार ) , 2017

दूसरा चन्द्र ग्रहण: 7 अगस्त (सोमवार) , 2017

सूतक में क्या करे ओर क्या न करें

ग्रहण या सूतक का हिन्दू धर्म में विशेष महत्त्व है | सामान्यतः ग्रहण साल में चार बार आते है | ग्रहण सूर्य, चंद्रमा और पृथवी के एक साथ आने की स्तिथि होती है | अमावस्या को सूर्य ग्रहण और पूर्णिमा को चंद्र ग्रहण पड़ता है | धार्मिक मान्यता के अनुसार सूर्य या चंद्र ग्रहण दिखाई देने पर ही सूतक मान्य होता है और यदि ग्रहण दिखाई ना दे तो उनकी कोई भी धार्मिक मान्यता नहीं होती है |

सूतक का तात्पर्य ख़राब समय या ऐसा समय जब प्रकृति अधिक संवेदनशील होती है , अतः  घटना दुर्घटना होने की संभावना भी बढ़ जाती है | इसलिए ऐसे समय में सचेत रहे और ईश्वर का धयान लगाए | वैसे तो हम जीवन में भी नियमो का पालन करते है परंतु सूतक के दौरान हमे विशेष नियमो का पालन करना चाहिए | धर्म और शास्त्र में बताया गया है कि सूतक में कौन कौन से काम करने चाहिए और कौन कौन से नहीं |

काल : सूतक में सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का काल अलग अलग होता है | यदि सूर्य ग्रहण आपके क्षेत्र में पड़ने वाला है और दिखाई दे रहा है चाहे कम समय के लिए ही क्यों ना हो उसकी धार्मिक मान्यता होती है | सूर्य ग्रहण में सूतक का प्रभाव 12 घंटे पहले और चंद्र ग्रहण में सूतक का प्रभाव 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है |

सूर्य ग्रहण के दौरान ध्यान देने योग्य बातें :

  • सूर्य ग्रहण के दौरान शौचालय ना जाये | लेकिन गर्भवती महिलाएं, बुज़ुर्ग , बच्चे और बीमार व्यक्ति पर यह नियम लागू नहीं होता |
  • सूतक में भोजन ना करे | दूध , फल, जूस या सात्विक भोजन  ले सकते है | फिर से गर्भवती महिलाएं, बुज़ुर्ग , बच्चे और बीमार व्यक्ति पर यह नियम लागू नहीं होता | व वे लोग इस दौरान फल, जूस, पानी का सेवन कर सकते है |
  • सूतक में भोजन ना बनाये | विशेषतौर से गर्भवती महिलाएं चाकू छुरी से कुछ भी ना काटे |
  • सूतक में सिलाई कढ़ाई का कार्य ना करे | विशेषकर से गर्भवती महिलाएं |
  • सूर्य ग्रहण को ना देखे | विशेषकर नंगी आंखों से तो कतई नहीं .
  • भगवान की मूर्ति को स्पर्श ना करे |
  • व्यसन से दूर रहे | अपराध बुरे काम, बुरे विचार और झूठ से दूर रहे | क्योंकि इस समय किये गए बुरे कार्य का प्रभाव कई गुना  बढ़ जाता है |

क्या करे :

  • ग्रहण के बाद घी और खीर से हवन करे इससे आपको लाभ और लंबे रोग से छुटकारा मिलेगा |
  • यदि चंदमा निर्बल है तो “ॐ चन्द्राय: नमः” मन्त्र का जप करे |
  • यदि आपका सूर्य निर्बल है तो  इस दौरान मंत्र“ॐ सूर्याय: नमः” का जप करे |
  • पितृ दोष निवारण के लिए भी सूर्य ग्रहण का समय उपयुक्त होता है |
  • ग्रहण के समय यदि आपकी कुंडली में सूर्य या चंद्र दोष है तो यह समय ग्रहण संबंधी उपचार के लिए उपयुक्त है |
  • यदि आप किसी तीर्थ स्थल पर है तो वह स्नान कर जप और दान करे |
  • ग्रहण के उपरांत स्नान कर यथासंभव किसी जरूरतमंद को दान करे आपको इसका लाभ मिलेगा |
  • विशेष: ग्रहण के दौरान तुलसी पत्ता तोडना निषेध है इसलिए सूतक से पहले तोड़ ले |
  • दूध और दही में भी तुलसी पत्ता डाल दे |
  • यदि कुछ विशेष भोजन है जो आप फेकना नहीं चाहते तो उसमे सूतक से पहले  तुलसी पत्ता डाल दे |
  • सूतक के दौरान भोजन ना बनाये | सूतक से पहले भोजन तैयार कर ले और सूतक के दौरान ही समाप्त कर ले यदि ये भोजन बच जाता है तो उसे पशु ,पक्षी को डाल दे |
  • धार्मिक पुस्तक पढ़े |
  • सोच को सकारात्मक रखे | विशेषतोर पर गर्भवती महिलाये क्योंकि उसका सीधा प्रभाव आपके होने वाले बच्चे पर पड़ता है |
  • अच्छे विचार और भाव मन में लाये |
  • अपने सामान्य दैनिक कार्य करें |
  • स्नान कर भगवान  का मनन करे . जो भी आपके आराध्य देव है उनका धयान करे |

अंत में एक बार फिर से  गर्वभती महिलाये , बच्चे , बुज़ुर्ग और बीमार व्यक्तियों के लिए भोजन लेना , शौचालय जाना , दवाई लेने पर कोई पाबन्दी नहीं है |

प्रथम सूर्य ग्रहण का विभिन्न राशियों पर प्रभाव

मेष : आर्थिक दृष्टि से देखा जाये तो यह समय आपके लिए बहुत अधिक फायदेमंद होगा. कहीं न कहीं से अधिक मात्र में धन आगमन के योग बने हुए हैं. शिक्षा प्रतियोगिता के लिए यह समय थोड़ी प्रतीक्षा करवाने वाला होगा. आपके द्वारा किए गये परिश्रम का फल आपको  देर से मिलेगा.  सूर्य ग्रहण के कारण बहुत अधिक संवेदनशील समय का सृजन होगा अतः गर्भवती स्त्रियों के लिए अधिक सावधानी बरतने का समय है. अपनी सुरक्षा एवं स्वास्थ्य की  देखभाल में कोई लापरवाही न बरतें.

वृषभ : यह समय आपके पिता की सेहत के लिए अनुकूल समय नहीं है. यदि वह पहले ही अस्वस्थ है तो किसी  भी प्रकार की लापरवाही घातक हो सकती है. कार्य क्षेत्र में भी आपको अपने उच्च अधिकारियों का सहयोग नहीं मिलेगा जिसके कारण कार्यों को पूरा करने में रुकावट आएगी. अधिक संवेदनशील समय होने के कारण घर परिवार में भी मन मुटाव की स्तिथि उत्त्पन्न हो सकती है. रिश्तों को बचा कर रखने के लिए धैर्य से काम लें.

मिथुन: आपके लिए यह समय आर्थिक दृष्टिकोण से बहुत लाभदायक रहेगा. अचानक धन लाभ के योग बने हुए हैं. जिसके कारण आपका लम्बे समय से चला आ रहा क़र्ज़ समाप्त हो जायेगा और आपको आर्थिक तनाव से छुटकारा मिलेगा. यह ग्रहण आपके भाग्य स्थान पर बनेगा अतः भाग्य भरोसे कोई भी कार्य न करें, किसी भी प्रकार के बड़े निवेश या धन से जुड़े निर्णय जल्दबाजी में न लें. इस समय समाज में आपका प्रभाव बना रहेगा और आपके कार्य भी पूर्ण होंगे परन्तु किसी को हानि पहुंचाने की भावना भी आपके मन में आ सकती है इसलिए थोडा सावधान रहें एवं भाई बहनों के साथ सम्बन्ध मधुर बनाने का प्रयत्न करें.

कर्क: धन के मामले में यह समय आपके लिए बहुत लाभप्रद रहेगा. अचानक धन लाभ के योग बनेगे. घटनायों का पूरावाभास करने में आप सक्षम रहेंगे. हालाँकि स्वास्थ्य के मामलों में आपके लिए यह समय बेहद संवेदनशील रहेगा. किसी प्रकार भी प्रकार की दुर्घटना या रोग व्याधि की संभावना बन सकती है. यदि पहले से स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा हो तो सावधान रहें. यदि जन्म कुंडली में लग्न स्वामी कमज़ोर है अथवा शनि, राहु या केतु की दशा चल रही हो तो “महामृत्युंजय अनुष्ठान” या कम से कम “रुद्राभिषेक” अवश्य कराएं.

सिंह: यह समय कार्य व्यापार के लिए संवेदनशील रहेगा. साझेदारों के साथ मन मुटाव होने की  संभावना बनेगी. किसी भी प्रकार के बड़े निर्णय या आर्थिक निवेश से पहले भली प्रकार सोच विचार ले या किसी अनुभवी से परामर्श ले. कारोबार में धैर्य से काम ले ओर संतुलित होकर चलें. पारिवारिक सुख में भी आप कमी पाएंगे. किसी कारण से जीवन साथी से भी दूरी बनने के संकेत सितारे दे रहे हैं . सूर्य ग्रहण से एक सप्ताह पहले और  कम से कम 10 दिन बाद तक यह स्तिथि बनी रहेगी अतः कोई भी निर्णय जल्दबाजी में न लें.

कन्या:  सूर्य ग्रहण का प्रभाव कन्या लग्न के जातकों पर कई प्रकार से अनुकूल पड़ेगा. आपके लिए यह बेहतर समय है विशेषकर धन सम्बंधित कार्यों को लेकर.  पुराने कर्जों से छुटकारा मिलेगा. शत्रु परास्त होंगे. विवादों का अंत होगा, पुराने रोगों से छुटकारा मिलेगा. अतः सभी तरह से आपका समय बेहतर होने वाला है. यदि कोई पुराना कोर्ट कचहरी का मामला चल रहा है तो निर्णय आपके पक्ष में आने की  संभावना बनेगी. यह समय आपकी  सेहत के लिए अनुकूल समय नहीं है. यदि आपको किसी प्रकार की त्वचा या फेफड़ों से सम्बंधित रोग हो या कोई एलर्जी हो तो सावधान रहें यह रोग सूर्य ग्रहण के दौरान बढ़ सकते हैं.

तुला :  यह समय शिक्षा प्रतियोगिता  के लिए बेहद अनुकूल है. परीक्षा या साक्षत्कार के लिए आपकी सोच और आपका ज्ञान पूर्ण रूप से साथ देगा. आपकी तर्कशक्ति एवं वाणी आपका साथ देगी और आपको हर प्रकार से सफलता दिलाएगी. धन के मामले में भी यह समय अनुकूल  है, आपकी आर्थिक स्थिति अवश्य सुधरेगी.  केवल संतान पक्ष की ओर से आपको सतर्क रहना होगा. सूर्य ग्रहण के कारण बहुत अधिक संवेदनशील समय का सृजन होगा अतः गर्भवती स्त्रियों के लिए अधिक सावधानी बरतने का समय है. अपनी सुरक्षा एवं स्वास्थ्य की  देखभाल में कोई लापरवाही न बरतें.

वृश्चिक : सूर्य ग्रहण का समय आपके लिए थोडा परेशानी भरा रहेगा. पारिवारिक सुख में कमी आएगी. माता के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ सकता है. सूर्य ग्रहण से एक सप्ताह पहले और  कम से कम 10 बाद तक यह स्तिथि बनी रहेग, इस दौरान कोई शोक सन्देश भी आपको मिल सकता है. परिवार में कोई अप्रिय घटना भी हो सकती है. आपके सितारे स्थान परिवर्तन की ओर भी  संकेत दे रहें हैं यह परिवर्तन कार्य स्थान या रहने के स्थान में  हो सकता है.

धनु : आपका आत्मबल बहुत अधिक बढ़ा चढ़ा रहेगा. कुशाग्र बुद्धि के कारण आप सही दिशा में  निर्णय ले पाएंगे. भाई बहनों का सहयोग मिलेगा एवं सम्बन्ध मधुर होंगे, परन्तु बड़े भाई के साथ कुछ अन बन हो सकती है अतः वाणी पर नियंत्रण आवश्यक है. कुल मिलाकर सूर्य ग्रहण का प्रभाव आपके लिए अधिक नकारात्मक नहीं है. धन लाभ और पराक्रम  के लिए यह समय अनुकूल एवं लाभकारी  है.

मकर: आपके लिए यह समय आर्थिक रूप से बहुत अधिक लाभकारी होगा. धन आगमन के संकेत दिखाई दे रहे है. आर्थिक रूप से आपकी इस समय बहुत उन्नत्ति होगी परन्तु छोटे भाई के साथ अन बन होने की भी संभावना बनी हुई है. छोटे  भाई के द्वारा किसी प्रकार की  कोई परेशानी या  विवाद में आप अपने आपको उलझा हुआ पाएंगे. करियर के लिए यह समय अनुकूल है. अग्नि या विद्युत् उपकरणों से यथा संभव दूरी बनाये रखें.

 कुम्भ : यह समय आपकी सोच और  निर्णय लेने की  क्षमता पर बुरा असर डालेगा. मन विचलित रहेगा. असमंजस की  स्तिथि बनी रहेगी, बुद्धि  कुशाग्र नहीं रहेगी और आप किसी भी निर्णय पर जल्दी पहुँच नहीं पाएंगे. आत्मबल एवं उत्साह में कमी आएगी.  इस समय आप अपने करियर से सम्बंधित कोई भी बड़ा निर्णय न ले या संभव हो तो कुछ समय के लिए टाल दें. आलस्य हावी रहेगा. यदि पहले से अवसाद  के शिकार हैं तो सावधान रहे ओर अपने आपको  संतुलित बनाये रखने का प्रयास करें.

मीन: यह समय आपके लिए कुछ मामलों में अनुकूल नहीं है. अचानक धन व्यय आपको परेशानी में डाल सकता है. किसी भी प्रकार कि उनुपयोगी वस्तु की  खरीदारी से बचें. शत्रु आप पर हावी होने का प्रयत्न करेंगे ओर रोग की  भी संभावना बनी हुई है. इस दौरान हुए रोग जल्दी ठीक नहीं होंगे  अतः स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें. घर परिवार में स्त्रियों को स्वस्थ्य सम्बन्धि समस्याएं आ सकती हैं. आर्थिक मामलों में भी समय संवेदनशील है , किसी भी प्रकार के बड़े फैसलों से बचे. मन पर नियंत्रण और  व्यसन से दूरी बनाये रखें.

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s