चंद्रमा से जाने अपने मन की स्तिथि

ग्रहों में सबसे अधिक गति से चलने वाला चंद्रमा मन का प्रतिनिधित्व करता है. चन्द्र को काल पुरुष का मन कहा गया है. चन्द्र माता ,मन ,मस्तिष्क ,बुद्धिमता ,स्वभाव ,जननेन्द्रियों ,प्रजनन सम्बन्धी रोगों,गर्भाशय  इत्यादि का कारक है . इसके साथ ही चन्द्र व्यक्ति की भावनाओं पर नियन्त्रण रखता है. वह जल तत्व ग्रह है. सभी तरल पदार्थ चन्द्र के प्रभाव क्षेत्र में आती है. इसके अतिरिक्त चन्द्र बाग-बगीचे,  नमक, समुद्री औषधी, परिवर्तन, विदेश यात्रा, दूध, मान आदि को ज्योतिष शास्त्र में चन्द्र से देखा जा सकता है.

rashifal-moon-horrendous-mind-part-eye-feel-news-hindi-india-11218

 

आप अपनी जनम कुंडली खोलिये उसमे आप अपने जन्मकालीन चंद्रमा की भाव में स्तिथि देखिये की चंद्रमा किस भाव में है जैसा की ऊपर बताया गया की चंद्रमा मन का करक गृह है इसलिए चंद्रमा का मनुष्य के मन-भावनाओ-विचारो पर अधिकार है .
चंद्रमा आपका मन जिस भाव में रहेगा आप मन भी उसी भाव से सम्बंधित विषयो में रहेगा आपके विचार आपकी भावनाएं उसी भाव से सम्बंधित विषयो पर केंद्रित रहेंगी

kundali-sthan

जानते हैं जनम कुंडली का कौनसा भाव किन किन विषयो को दर्शाता है !

प्रथम भाव : यह लग्न भी कहलाता है। इस स्थान से व्यक्ति की शरीर यष्टि, वात-पित्त-कफ प्रकृति, त्वचा का रंग, यश-अपयश, पूर्वज, सुख-दुख, आत्मविश्वास, अहंकार, मानसिकता आदि को जाना जाता है।

द्वितीय भाव : इसे धन भाव भी कहते हैं। इससे व्यक्ति की आर्थिक स्थिति, परिवार का सुख, घर की स्थिति, दाईं आँख, वाणी, जीभ, खाना-पीना, प्रारंभिक शिक्षा, संपत्ति आदि के बारे में जाना जाता है।

तृतीय भाव : इसे पराक्रम का सहज भाव भी कहते हैं। इससे जातक के बल, छोटे भाई-बहन, नौकर-चाकर, पराक्रम, धैर्य, कंठ-फेफड़े, श्रवण स्थान, कंधे-हाथ आदि का विचार किया जाता है।

चतुर्थ स्थान : इसे मातृ स्थान भी कहते हैं। इससे मातृसुख, गृह सौख्‍य, वाहन सौख्‍य, बाग-बगीचा, जमीन-जायदाद, मित्र छाती पेट के रोग, मानसिक स्थिति आदि का विचार किया जाता है।

पंचम भाव : इसे सुत भाव भी कहते हैं। इससे संतति, बच्चों से मिलने वाला सुख, विद्या बुद्धि, उच्च शिक्षा, विनय-देशभक्ति, पाचन शक्ति, कला, रहस्य शास्त्रों की रुचि, अचानक धन-लाभ, प्रेम संबंधों में यश-नौकरी परिवर्तन आदि का विचार किया जाता है।

छठा भाव : इसे शत्रु या रोग स्थान भी कहते हैं। इससे जातक के श‍त्रु, रोग, भय, तनाव, कलह, मुकदमे, मामा-मौसी का सुख, नौकर-चाकर, जननांगों के रोग आदि का विचार किया जाता है।
सातवाँ भाव : विवाह सौख्य, शैय्या सुख, जीवनसाथी का स्वभाव, व्यापार, पार्टनरशिप, दूर के प्रवास योग, कोर्ट कचहरी प्रकरण में यश-अपयश आदि का ज्ञान इस भाव से होता है। इसे विवाह स्थान कहते हैं।

आठवाँ भाव : इस भाव को मृत्यु स्थान कहते हैं। इससे आयु निर्धारण, दु:ख, आर्थिक स्थिति, मानसिक क्लेश, जननांगों के विकार, अचानक आने वाले संकटों का पता चलता है।

नवाँ भाव : इसे भाग्य स्थान कहते हैं। यह भाव आध्यात्मिक प्रगति, भाग्योदय,पिता , बुद्धिमत्ता, गुरु, परदेश गमन, ग्रंथपुस्तक लेखन, तीर्थ यात्रा, भाई की पत्नी, दूसरा विवाह आदि के बारे में बताता है।

दसवाँ भाव : इसे कर्म स्थान कहते हैं। इससे पद-प्रतिष्ठा, बॉस, सामाजिक सम्मान, कार्य क्षमता, पितृ सुख, नौकरी व्यवसाय, शासन से लाभ, घुटनों का दर्द, सासू माँ आदि के बारे में पता चलता है।

ग्यारहवाँ भाव : इसे लाभ भाव कहते हैं। इससे मित्र, बहू-जँवाई, भेंट-उपहार, लाभ, आय के तरीके, पिंडली के बारे में जाना जाता है।

बारहवाँ भाव : इसे व्यय स्थान भी कहते हैं। इससे कर्ज, नुकसान, परदेश गमन, संन्यास, अनैतिक आचरण, व्यसन, गुप्त शत्रु, शैय्या सुख, आत्महत्या, जेल यात्रा, मुकदमेबाजी का विचार किया जाता है।

आपकी जनम कुंडली में चंद्रमा जिया भी भाव में रहेगा आपके जीवन भर उस भाव से सम्बंधित विषय मुख्यता आपके मन को प्रभावित करेंगे -न केवल जीवन भर बल्कि दैनिक जीवन में भी आप नित्य उस भाव से सम्बंधित विषयों का विचार अवश्य करेंगे ..

दैनिक मनोस्तिथी जानने के लिए आप चंद्रमा का प्रतिदिन का गोचर किस भाव में हो रहा है अपने मन की स्तिथि जान सकते हैं

चन्द्रमा के मित्र ग्रह सूर्य और बुध है. चन्द्रमा किसी ग्रह से शत्रु संबन्ध नहीं रखता है. चन्द्रमा मंगल, गुरु, शुक्र व शनि से सम संबन्ध रखते है.  चन्द्र कर्क राशि का स्वामी है. चन्द्र वृ्षभ राशि में उच्च स्थान प्राप्त करता है. चन्द्र वृ्श्चिक राशि में होने पर नीच राशि में होते है. चन्द्र ग्रह उत्तर-पश्चिम दिशाओं का प्रतिनिधित्व करता है. चन्द्र का भाग्य रत्न मोती है. चन्द्र ग्रह का रंग श्वेत, चांदी माना गया है. चन्द्र का शुभ अंक 2, 11,  20 है. चन्द ग्रह के लिए दुर्गा, पार्वती और देवी गौरी की उपासना करनी चाहिए.

चन्द्र ग्रह का बीज मंत्र |

chandrma

चन्द्र ग्रह का बीज मंत्र ” ऊँ स्रां स्रीं स्रौं स: चन्द्रमासे नम: (संकल्प संख्या 11000)

चन्द्र ग्रह का वैदिक मंत्र |

चन्द्र ग्रह का वैदिक मंत्र इस प्रकार है.

” ऊँ दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णवसम्भवम ।

भाशिनं भवतया भाम्भार्मुकुट्भुशणम।। ”

चन्द्र की दान योग्य वस्तुएं चावल, दूध, चांदी, मोती, दही, मिश्री, श्वेत वस्त्र, श्वेत फूल या चन्दन. इन वस्तुओं का दान सोमवार के दिन सायंकाल में करना चाहिए.

चन्द्र राशि के व्यक्ति का व्यक्तित्व |

चन्द्र राशि लग्न भाव में हो या चन्द्र जन्म राशि हो, अथवा चन्द्र लग्न भाव में बली अवस्था में हो, तो व्यक्ति को कफ रोग शीघ्र प्रभावित करते है, शरीर की गोलाकार प्रकृ्ति का होता है. मन प्रसन्न कर देने वाली आंखे, विनोदी, अतिकामुक, अस्थिर विचारधारा.

चन्द्रमा से प्रभावित |

चन्द्र शरीर में बाईं आंख, गाल, मांस, रक्त बलगम, वायु, स्त्री में दाईं आंख, पेट, भोजन नली, गर्भाशय, अण्डाशय, मूत्राशय. चन्द्र कुण्डली में कमजोर या पिडित हो, तो व्यक्ति को ह्रदय रोग, फेफडे, दमा, अतिसार, दस्त गुर्दा, बहुमूत्र, पीलिया, गर्भाशय के रोग, माहवारी में अनियमितता, चर्म रोग, रक्त की कमी, नाडी मण्डल, निद्रा, खुजली, रक्त दूषित होना, फफोले, ज्वर, तपेदिक, अपच, बलगम, जुकाम, सूजन, जल से भय, गले की समस्याएं, उदर-पीडा, फेफडों में सूजन, क्षयरोग. चन्द्र प्रभावित व्यक्ति बार-बार विचार बदलने वाला होता है.

चंद्रमा के बली और निर्बल रुप का प्रभाव |

जन्म कुंडली में चन्द्रमा यदि अपनी ही राशि में या मित्र, उच्च राशि षड्बली ,शुभ ग्रहों से दृष्ट हो तो चन्द्रमा की शुभता में वृद्धि होती है. जन्म कुण्डली में चंद्रमा यदि मजबूत एवं बली अवस्था में हो तो व्यक्ति समस्त कार्यों में सफलता पाने वाला तथा मन से प्रसन्न रहने वाला होता है. पद प्राप्ति व पदोन्नति, जलोत्पन्न, तरल व श्वेत पदार्थों के कारोबार से लाभ मिलता है. यदि चन्द्रमा कृष्ण पक्ष का नीच या शत्रु राशि में हो तथा अशुभ ग्रहों से दृष्ट हो तो चंद्रमा निर्बल हो जाता है. ऎसी स्थिति में निद्रा व आलस्य घेरे रहता है व्यक्ति मानसिक रुप से बेचैन, मन चंचलता से भरा रहता है मन में भय व्याप्त रहता है.

Consult by appointment Or Phone, for appointment please send your Birth details along with contact number to E-mail:astroamitkaushik@gmail.com
www.amitkaushik.co.in Or Call – +91-8860882932

 

इस रोचक जानकारी को अपने मित्रो  के साथ शेयर करें

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s